आओ सर्दी की धूप में कोई गीत गुनगुनाया जाए आओ धूप से थोड़ा विटामिन डी बढ़ाया जाए



आओ सर्दी की धूप में कोई गीत गुनगुनाया जाए
सूरज के साथ कोई खेल खेला जाए
आओ सर्दियों के टोनिक में बैठा जाए
आओ धूप से थोड़ा विटामिन डी बढ़ाया जाए


         जी हाँ मित्रों ये सर्दियों की गुनगुनी धूप के मजे है ख़ास है लोग घर की छतों पर बैठकर धूप का आनंद लेते हैं. मद्धम-मद्धम धूप सभी को आराम पहुंचाती है सर्दी से राहत दिलाती है. ये मजे सर्दियों के फुर्सत वाले वक्त में ही ले सकते है ये मजा दुसरे किसी मौसम में नहीं आएगा , आज भी लोग धूप सेकने बैठते तो है मगर अब सिलसिला जरा कम हो गया है मगर जाड़े के दिन और धूप में बैठने मिल जाए तो इसके मजे ही अलग है थोड़ी सी फुर्सत मिलते ही लोग धूप की जो भागते है अंदर कमरे में ठंड जो लगने लगती है , चटाई , दरी या कुर्सी पर बैठकर ना जाने कितने ही काम पूरे हो जाते है सर्दियों की धूप में , कभी तो विचारों की एक कहानी बन जाती है तो कभी ऊन से बुनते हुए शाल स्वेटर , कभी बैठे - बैठ मित्र मंडली के संग मजेदार बातों में सब्जी टूट जाती है तो लगता है दो काम एक साथ पूरे हो गए , कभी तो आचार , बड़ी , पापड़ बन जाते है तो कभी पूरे शरीर की आराम से सिकाई हो जाती है , कोई प्रोजेक्ट वर्क या होमवर्क जो पूरा नहीं हो पाया हो सब पूरा हो जाता है ।
धूप में पढ़ाई और सिकाई 

       मुझे भी नहाकर बढ़िया धूप में बैठना अच्छा लगता है बैठे - बैठे धूप इतनी अच्छी लगती है की नींद आ जाती है जैसे-जैसे धूप का टुकड़ा जगह बदलता, वे भी अपनी चटाई खिसकाती जातीं और नए टुकड़े का आनंद लेतींऐसा लगता है बढ़िया शरीर की गर्म - गर्म सिकाई हो रही है मैं कुछ देर सर्दियों की धूप में बैठकर गाने सुनते हुए धूप की टोनिक लेती रहती हूँ
        सुहानी धूप के दिनों में एक पुराने मोहल्ले की एक पुरानी दादी मां याद आती हैं। यह धूप घड़ी पढ़ने वाली दादी मां थीं। धूप सामने वाले खंभे पर कहां चढ़ी है, दीवार पर कहां तक पहुंची है इससे वे समय बता दिया करती थीं, हालांकि मोटे तौर पर ही। दादी मां धूप को बहुत प्यार करती थीं। सर्दियों में गुनगुनी धूप का मजा लेने के लिए, अपनी छोटी सी चटाई लेकर वे, पास के सार्वजनिक भवन के आंगन में पहुंच जातीं और अपनी चटाई बिछा कर बैठ जातीं। 
         कभी - कभी ऐसा लगता है घर की आधी दुनिया ही धूप में आकर बस गई है दर्जनों ऐसे काम जो घर में अंदर बैठे हुए पूरे नहीं होते है ऐसा लगता है धूप एक ज़रिया हो गई है इन्हें अंजाम देने का । ये मौसम सिर्फ का धूप में आराम से बैठने का ही नहीं है लोग टैनिंग की वजह धूप में नहीं बैठते है की हमारी स्किन काली हो जायेगी कलर डाउन हो जाएगा पर बल्कि इन दिनों धूप में बैठने के फायदे भी बहुत है बीमारियां ठीक करने की टोनिक है जो यह हमें ठिठुरती हुई सर्दी से तो बचाती ही है बल्कि हमारे शरीर को विटामिन डी भी देती है जिससे हड्डियां मजबूत होकर हमारे शरीर को ताकत देती है।

मेरी मम्मी और मेरी पढ़ाई करते और जाम संतरे संग सर्दी के मजे 


धूप में बैठने के फायदे

हम आपको रोज़ाना धूप में बैठने की सलाह दे रहे हैं। विशेषज्ञों के अनुसार रोज थोड़ी थोड़ी देर सूर्य की रोशनी में बैठने से शरीर के साथ-साथ दिमाग भी स्वस्थ होता है और उसे पर्याप्त ऊर्जा मिलती है। यानि फिट रहने का सबसे आसान नुस्खा तो यही है।

15 मिनट बीएस निकाली अपनी सेहत के लिए फिटनेस एक्सपर्ट कहते है की सर्दियों में अगर आप सुबह - सुबह की धूप में वैठे तो बहुत फायदा मिलेगा सुबह की धूप में नमी के साथ कुछ किरने भी होती है जो हमारे के लिए बहुत अच्छी होती है सर्दी की धूप बहुत सारी एनर्जी देती है धूप में बैठने से शरीर को गर्मी तो मिलती है ही रोगों से लड़ने की ताकत भी बढ़ जाती है आजकल लोग सनबाथ भी लेते है जो बहुत सारे रोग को डोर भगा देता है 


 अगर आपको पीपल्स , एग्जिमा स्किन में कोई एलर्जी है तो धूप में बैठने से वह भी दूर हो जाती है कमजोरी है थकान सब दूर , मांसपेशियों की समस्या , काफी हद तक दूर जाती है शरीर में कोई दर्द है वो भी ठीक हो जाता है जिन्हें नींद नहीं आती है या बार - बार खुल जाती है वह भी दूर जाती है ,

इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत बनाये

धूप में शरीर में कोई कीटाणु प्रवेश नहीं कर पाते है इसलिए फंगल इन्फेक्शन नहीं हो पाता है इम्‍यून सिस्‍टम अगर कमजोर हो जाये तो पेट संबंधित कई तरह के रोग हो जाते हैं, इसलिए इसे मजबूत बनाये रखना जरूरी है। धूप से शरीर का इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत हो जाता है। सूर्य से निकलने वाली अल्‍ट्रावॉयलेट किरणें इम्‍यून सिस्‍टम की हाईपरएक्टिविटी को नकारती हैं और सोराईसिस जैसी बीमारियों से बचाव करती हैं।
एक शोध के अनुसार धूप में कुछ देर बिताने से रक्तचाप कंट्रोल होने लगता है, जिससे दिल संबंधी बीमारियां नहीं होती।
 मालिश करें-

सुबह की वाक  से आने के बाद हो  सके तो  कुछ देर  सूर्य की धूप  में बैठ कर सरसों ,बादाम आदि के  तेल से मालिश करें सूरज की किरणों से  विटामिन डी मिलता है जो की हड्डियों  की मजबूती एवं ताकत  के लिए बहुत  जरुरी होता है l मालिश से स्वास्थ्य  सुधरता  है, त्वचा की कान्ति  निखरती  है शीत ऋतु  में वातावरण में रूखापन या खुश्की होता है जिससे त्वचा एवं होंट आदि फटने लगते है, त्वचा  रूखी हो जाती है, मालिश करने से त्वचा  में चिकनापन आता है,मांसपेशियां  मजबूत होती हैं, शरीर में खून का दौरा सुचारू रूप से चलता है, शरीर सुन्दर एवं सुगठित हो जाता है | इसलिए नित्य मालिश अवश्य करें l
बच्चों के लिए भी फायदेमंद
बच्चों को धूप में एक घंटे जरूर खेलना चाहिए ,क्योंकि यदि बच्चों में विटामिन डी की कमी होगी तो दूध और पनीर के जरिए मिलने वाले कैल्शियम का फायदा हड्डियों तक नहीं पहुंच पाएगा।

वेट अब होगा कम 
धूप में लगातार बैठने से कोलेस्ट्रोल नहीं बढ़ता है दिन की धूप में बैठने से आपको वजन घटाने में सहायता मिल सकती है क्योंकि एक शोध से पता चला है की सूर्य की रोशनी और बीएमआई के बीच एक अच्‍छा सम्‍बंध होता है।

लम्बी उम्र पाएं  
धूप में प्रतिदिन कुछ देर बैठने से रोग प्रति रोधक क्षमता बढ जाती है,जिससे शरीर को  बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है और इससे शरीर मधुमेह,किडनी,हाइपरटैंशन और ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा कम होता है। गुनगुनी धूप में बैठने से शरीर का सिकाव भी हो जाता है, इससे सर्दियों में होने वाले जोड़ों के दर्द, जकड़न में आराम मिलता है। किशोरियों का बढ़ता शरीर हो, मध्यवय स्त्री के मेनुपॉज का वक्त या बुढ़ापे में गलती हड्डियां हर उम्र में धूप सेवन के अपने फायदे हैं। दिल की बीमारियों से बच जाएगा और इससे अपने आप ही रोग रहित शरीर से उसकी उम्र बढ़ जाएगी।

बाल अब नहीं झडेंगे 
अगर आपके बाल बहुत झड़ते हैं तो धूप आपको इस समस्या से छुटकारा दिला सकती है. लेकिन आपको ये ध्यान रखना होगा कि धूप में ज़्यादा एक्सपोज़ ना करें. बालों को बढ़ाने वाले सेल्स सूरज़ की UV किरणों के प्रति संवेदनशील होते हैं. धूप में ज़्यादा एक्सपोज़ करने से विटामिन E और C कम हो जाता है. इसलिए थोड़ी देर के लिए ही धूप में रहें, इससे बालों का झड़ना दूर होगा ज्यादा देर धूप में बैठने से बालों का प्राकृतिक सौन्दर्य नष्ट हो सकता है

ठंड दूर भगाये
अगर आपको कुछ ज्यादा ही ठंड लग रही है आप ठंड से काँप रहे है तो सूर्य की रोशनी में जाकर बैठ जाए यह एक प्राकृतिक अलाव है जो आपके शरीर की ठंड दूर कर देगा और आपको बीमारियों से भी बचायेगा।

दिमाग रहेगा कूल कूल 
सूर्य से निकलने वाले प्रकाश में मौजूद विटामिन डी से दिमाग स्वस्थ रहता है। विटामिन डी भविष्‍य में होने वाली बीमारी सीजोफ्रेनिया (पागलपन की बीमारी) के खतरे को कम करता है। यह दिमाग को स्वस्थ रखता है और इसके संतुलित विकास में सहायता प्रदान करता है। गर्भवती महिला के धूप सेंकने से यह लाभ बच्‍चे को भी मिलता है। शरीर के जिस जिस हिस्से पर सूर्य की किरणें पहुंचती हैं, वहां रोग के कीटाणु स्वत: मर जाते हैं और रोगों का जन्म ही नहीं हो पाता | सूर्य अपनी किरणों द्वारा अनेक प्रकार के आवश्यक तत्व बिखेरता और उन तत्वों को शरीर में ग्रहण करने से असाध्य रोग भी दूर हो जाते हैं |

घने और लंबे बाल
धूप से आपके शरीर को विटामिन D मिलता है. विटामिन D का बालों की ग्रोथ में बड़ा हाथ होता है. इसलिए अगर आपको लंबे और घने बाल चाहिए तो कुछ देर तक सुबह की धूप में बैठ जाएं इससे बाल अच्छी तरह बढ़ने लगेंगे ।



नोट – आपके शरीर को धूप की ज़रूरत जरुर होती है, लेकिन बहुत ज़्यादा धूप नुकसान पहुंचाती है. इसलिए धूप में थोड़ी देर ही बैठे ज्यादा देर नहीं करें और सबसे अच्छा यह है की सुबह सुबह उठकर सुबह की धूप लें.

3 टिप्पणियाँ:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (15-12-2017) को
"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

शरद कोकास ने कहा…

और हमारी किताब गुनगुनी धूप में बैठकर की याद नही आई ?

कोपल कोकास ने कहा…

😜😎सॉरी डैडी

एक टिप्पणी भेजें