गुनगुनाते जाइए खाना बनाते जाइए


मैं गुजिया बेलते हुए (२०१३) 
          अपनी पाककला को केवल अपना शौक नहीं बल्कि मूड को मस्त बनाना है 
       रसोई में अपना हुनर आज़माना एक कला है जब खाना आपका मूड ऑफ़ रहेगा आप टेंशन में रहेगी तो आप खाना बनाने की शुरुआत में सब्जी को कटाने से लेकर परोसने तक सारा काम पूरे ध्यान से करेगी आप भूल जायेगी की आपको किस बात से तनाव हुआ था

        एक सर्वे में यह पाया गया कि बेकिंग से महिलाओं और पुरुषों में करीब 40% स्ट्रैस कम हो जाता है. खाना बनाना बोझ या सिरदर्द नहीं है कुछ लोग यह सोचकर खाना बनाने से पीछे हट जाते है के अरे खाना बनाने के लिए दस तरह के झंझट करने पड़ेगे बिलकुल नहीं आप खाना बनाना शुरू करिए एक -एक चीज अपने आप एक के बाद एक होती जायेगी इसलिए आप खाना बनाने को बोझ नहीं, बल्कि एक मनोरंजन समझे
खाना बनाना एक कला 

       जब आप कुकिंग करते है तो आप अपने तरीके नए नये प्रयोग करते है जब मैंने खाना बनाना शुरू किया था उस वक्त मेरी उम्र मात्र 24 साल थी धीरे - धीरे नई -नई चीजे बनानी शुरू की शुरुआत की बैंगन आलू की रसीली सब्जी से और तरह-तरह व्यंजन बनाती हूँ और आज खाना बनाने में एक्सपर्ट हो गई हूँ जब भी हमारे घर पर कोई अतिथि आते है तो मेरी मम्मी मुझसे ही कहती है की बेटा तुम ही बनाओ सब्जी तुम्हारे हाथ से सब्जी का रंग और स्वाद दोनों बढ़ जाते है शुरुआत में खाना बनाने में मुझसे ढेर सारी गलतियाँ होती है कभी आटे में पानी ज्यादा , कभी सब्जी में मिर्च ज्यादा , तो कभी चावल जल गया ऐसी छोटी -छोटी ना जाने कितनी तरह की गलतियाँ होती है पर मई ये सोचती हूँ की किचन ऐसी जगह है जहां धीरे धीरे हर गलती आप ठीक करते है कोशिश करते हुए उसमें सुधार करते है आप खाना बनाने में जब गलती हो जाती है तो यह अगली बार ध्यान रखते है की अगली बार यह नहीं करेगे l

   मुझे भी मुझे टेंशन होता है रसोई में खाना बनाते हुए मेरा सारा टेंशन दूर हो जाता है क्योंकि मेरा मानना है की जब आप कुकिंग करते है तो आप उस काम में पूरी लगन से जुट जाते है जिस बात से टेंशन हो रहा होता है काम करने की लगन में उस बात को भूल जाते है जिससे टेंशन हो रहा था

       कुकिंग बनाते हुए मोबाइल में अपनी पसंद के गाने सुने सिर्फ सुने नहीं साथ में गुनगुनाते हुए खाना बनाइए फिर देखिये आपके खुश रहने से खाना भी बढ़िया बनेगा और मूड भी मस्त रहेगा

      आप खाना बनाते समय अपने खाना बनाने नए तरीके बनाइए एक जैसी विधि से नहीं अलग अलग तरीके से बनाइये l  

     किचन को अपने हिसाब से जमाएं कौन सी चीज कहाँ रखनी है जैसे बर्तन , खाने बनाने के सामान मसाले अलग डिब्बो में रखे हर चीज किचन में व्यवस्थित रखे जिन चीजो से आपको खाना बनाना है अगर उन सामग्री की व्यवस्था नहीं कर पा रही है स्मार्ट कुकिंग करने के लिए बाजार में मिलने वाले तरह-तरह के मसालों का प्रयोग खाने में करें. इस के लिए पौष्टिकता, टेस्ट और सुगंध बढाने वाले मसालों का ध्यानपूर्वक चयन कर खरीद कर घर में रखें l


     खाने में नई -नई डिश प्रयोग करने के लिए रेसिपी बुक्स पढ़े अगर बाहर किसी और शहर में जाती है वहां के खास व्यंजन को देखे नोट करे और वापस आकर आप उन्हें बनाने की कोशिश करिए

      खाना बनाते वक्त अपने ध्यान को सिर्फ खाना बनाने में लगाइए उस विषय का मत सोचिये जिससे आपको तनाव हो रहा था  

     खाना एकदूसरे को जोड़ता है, फिर चाहे वह फ्रैंड हो या परिवार वाले, अच्छे भोजन की सब की चाह रहती है

     कुकिंग करते समय तरह-तरह के व्यंजनों को काटना पड़ता है, जिस में सब्जियों के कलर और मसालों के फ्लेवर काटने वाले की नसों को शांति प्रदान करते हैं, जिस से तनाव कम होता है

    सब्जियों को काटना, मसलना, क्रश करना, स्लाइस करना, छीलना आदि सभी काम को जब हम ध्यान से करते है तो हम समस्या भूल जाते है और तनावमुक्त हो जाते हैं

    कुकिंग में क्रिएटिविटी खूब होती है. जितना आप उसे सही तरीके से पेश करेंगे, उतने ही आप नए-नए तरीके सोचेंगे इससे आपको ज्यादा खुशी महसूस होगी

    अगर आप अच्छा खाना बनाती हैं, तो अधिकतर फ्रैंड या परिवार वाले आप के इस हुनर की तारीफ करते नहीं थकते. की वाह आपने क्या पुलाव बनाया है या बहुत अच्छी सब्जी बनी है इस से आप का मनोबल ऊंचा होता है और नई नई चीजे ट्राय करती है

   जब आप खाना किसी दोस्त या परिवार वालों की पसंद का बनाती हैं और वे उसे खुश हो कर खाते हैं और खाना खाते हुए अपनी खुशी जाहिर करते है किए आज यह डिश में मझा आ गया l

   आप रसोई के कलाकार है और खाना बनाना एक कला है, जो हर व्यक्ति में अलग-अलग होती है और शांति देती है l

   खाना बनाना आने पर आप अपना मनपसंद खाना खा सकते हैं, जिस से आप को सुकून मिलेगा और तनाव दूर होगा जैसे किसी व्यक्ति को चाइनीज पसंद है या मीठा तो आप अपनी पसंद का खाना  खाने पर खुशी मिलती है और यही खुशी तनाव कम करती है l

       आप खाना बनाएगी फिर खिलाकर किचन साफ़ करेंगी इससे समय भी कटेगा भी तनाव कम हो जाएगा l

       आजकल हर किसी की जिन्दगी में भागदौड़ और काम का प्रेशर ज्यादा है तो आप स्मार्ट कुकिंग करिए और खाना बनाने की तैयारी पहले से करके रखे l

      आज क्या खाना बनाऊँ यह सबसे बड़ा टेंशन है आपको खाना में क्या क्या बनाना है यह पहले से सोच ले की आज मुझे गोभी आलू बनाना है दाल रोटी चावल बनाना है या आप एक हफ्ते का मीनू भी बनाकर रखा सकता है l

      आप खाना बनाएगे तो आप सब्जी में मिर्च नमक , दाल में कितना नमक डालना है उस पर ध्यान रखेगे आप उसके स्वाद को चखकर देखेंगे l

      सब्जियों को रात में काट कर, कच्चे मसाले की सामग्री को पीस कर, भिगो कर और भाप दे कर पहले से फ्रिज में रख लें l

     कितने लोगो के लिए कितनी रोटियाँ बनानी है उसके हिसाब से रात में पहले से आटा गूथकर फ्रिज रख ले l

     अगर दाल बनानी है तो उसे पहले से भिगो कर रखें ताकि जल्दी पक जाए. इस से उस के पोषक तत्त्व भी कायम रहते हैं और गल भी जल्दी जाती है l


       महिलाओं के लिए शेफ रणवीर बरार कहते हैं, ‘‘महिलाएं अपना ध्यान न रख कर पूरे परिवार का खयाल रखती हैं. इस से उन का मूडऔर मौरलदोनों ही नीचे चले जाते हैं. ऐसे में उन्हें अपना खयाल पहले रखना चाहिए ताकि उन्हें काम के दौरान किसी प्रकार का तनाव न रहे.’’

1 टिप्पणियाँ:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (01-010-2017) को
"जन-जन के राम" (चर्चा अंक 2744)
पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
विजयादशमी की
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

एक टिप्पणी भेजें