कामकाजी स्त्री और खानपान

             

मेरे खाने में क्या है 
         महिलाओं को अपने खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि उन्हें ऑफिस के साथ घर भी सम्हालना होता है कई बार महिलाएं बाकी जिम्मदारियो को निभाने के चक्कर में अपना ध्यान देना भूल जाती है कामकाजी महिलाओं को अपने खाने में उन चीजो को लेना चाहिए जिनसे उन्हें भरपूर पोषण मिले स्फूर्ति मिले खाने में विटामिन ,जिंक , प्रोटीन, कैल्शियम की मात्रा ज्यादा ले  कामकाजी महिला को अपने समय और सुविधा के हिसाब से एक हेल्दी डाईट चार्ट बनाना चाहिए और उसी के अनुसार चलना चाहिए 

       सुबह उठने के लिए अलार्म ना लगाएं क्योकि आप जब अलार्म लगाकर सोती है तो या तो आप समय पर उठना भूल जाती है या फिर अलर्म के चक्कर में नींद नहीं पूरी होती है अपने दिमाग में यह बात फिट कर ले की आपको इतने बजे सोना है इतने बजे उठना है आपकी नींद अपने आप एक फिक्स टाइम पर खुल जायेगी फिर नो ऑफ़ अलार्म क्लॉक 

       अपने दिन की शुरुआत पानी पीकर करे उसके बाद आप ग्रीन टी, ब्लैक टी ले सकती है 
काम और खाना 
   सुबह का नाश्ता -
नाश्ता पर अवश्य ध्यान देना चाहिए क्योंकि आपने रात का डिनर अगर 8 बजे किया है या 9 बजे किया है उसके बाद आप खाने बनाने से लेकर किचन साफ़ करने व अन्य काम करती है तो सुबह तक आपका शुगर लेवल डाउन हो जाता है और सुबह उठने के बाद बच्चों का टिफिन ,घर के लोगों के लिए नाश्ता बनाती है ऐसे में आपको जरूरत है की आप स्वयं भी नाश्ता करे यदि आपका ओफिस सुबह 9 बजे से है आप सुबह के नाश्ते में विटामिन ए वाले फल जैसे सेब,पपीता,स्ट्राबेरी खाना काफी फायदेमंद होता है पर आपके पास कम समय है तो आप सिर्फ एक गिलास दूध या कोई भी फल खा सकती है या दूध में कोर्न्प्लेक्स,दलिया,ओटमील और उसमें थोड़े द्रैफ्रूट्स मिलाकर खा सकती है या  दलियासैंडविच अपने साथ कोई फल रख ले समय मिलने पर खा सकती है 

 दिन का खाना  -
कामकाजी महिलाओं को अपने नाश्ते और लंच चार से पाँच घंटे का अंतर रखना चाहिए लंच में स्वास्थ्यवर्धक आहार लेना चाहिए आप अपने लंच में सब्जी ,दाल,दही या छाछ ,चपाती को शामिल करे चापती में मिक्स आते की चपाती खा सकती है हरी सब्जियां खाना आपके लिए फायदेमंद है अगर आप अंडा खाती है तो हरी सब्जी और दाल की जगह अंडे उबालकर रख ले आपके लंच में सलाद जरुर रखे सलाद में ककडी,गाजर,मूली,चुकंदर,प्याज और थोड़ा सा नीबू डालकर खाएं आदि रखे खाने में चावल और रोटी की मात्रा कम रखे सलाद की ज्यादा रखे ब्रोकली ,पालक , लौकी आदि का सेवन करे एक प्लेट ब्राउन राईस में  केचप मिलाकर खा सकती है एक कटोरी जरुर खाए व् पाँच तरह की दाल भी बना के खा सकती है 

शाम के छुटपुट नाश्ते -
अक्सर काम करते करते आपको बीच में कुछ ना कुछ खाने का मन करता है और आप कुछ ऐसी चीजे खा लेती है जो आपकी सेहत को बिगाड़ देते है ऐसे में आप अपने पास अपनी दराज में फल,सेब , अनार, पपीता ,स्प्राउट्स, चना मुरमुरा मूंगफली ,आंवला,टमाटर रखे या गेंहू की बिस्किट खाए उबले हुए कोर्न प्याज टमाटर नीबू के साथ खाएं इससे आपकी भूख मिट जायेगी और हेल्थ भी नहीं बिगड़ेगी याद रखे शाम के स्नैक्स में और रात के खाने में ज्यादा गेप नहीं होना चाहिए क्योंकि आपको रात को खाना भी बनाना है और घर के अन्य काम भी निपटाने है काम ज्यादा होने पर चाय कॉफ़ी नहीं नारियल पानी या हर्बल टी पिए । 
 ऑफिस की पार्टीस में भी आप ध्यान रखे कि ऐसा खाना ना खाए जिससे आपका फिगर बिगड़ जाए


   रात का खाना
रात का खाने में ध्यान रखे सोने से दो घंटे पहले खा ले खाने को पचने का पूरा समय दे खाने के तुरंत बाद ना सोये रात में कभी भी बिना खाना खाए नहीं सोये ज्यादा तेल वाली चीजे ना खाए कोशिश करे गेंहू की रोटी खाए कम मसाले वाली सब्जी खाएं ऐसा खाना पचने में आसान होता है और इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है अगर आप नों वेजीटेरियन है तो आप रात में कभी चिकन या मछली खा सकती है बिना ऑयल के या आप उसे बोयल करके भी खा सकती है रात के खाने में भी सलाद व् कच्ची सब्जिया ज्यादा खाइए  कल्शियम व् प्रोटीन की पूर्ती के लिए दूध जरुर पिएँ 

पानी अधिक पिएँ अपने पास हमेशा एक बोतल या जार में पानी भरकर रखे जैसे ही खत्म हो तो दोबारा आप स्वयं उठकर जाएं और भरकर लाएं इससे थोड़ी देर उठने से पैरो की एग्ज्र्साइज हो जायेगी  

यदि आपने अपने लिए डाइट चार्ट बनाया है तो फ़ॉलो कीजिए लटका के मत रखे 

1 टिप्पणियाँ:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (30-09-2017) को "विजयादशमी पर्व" (चर्चा अंक 2743) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

एक टिप्पणी भेजें