बिना किये किसी काम के नहीं बैठना कभी आराम से

             
             हर व्यक्ति रोज कोई ना कोई काम जरुर करता है कभी किया हुआ काम उस काम के लिए की गई मेहनत सार्थक हो जाती है तो कभी काम निरर्थक हो जाता है किसी भी काम को करने के लिए इंसान की लगन कड़ी मेहनत कोशिश ही उसे उसके काम में उसे सफल बनाते है आज व्यक्ति का काम बोलता है जो जितना काम करता है लोग उसे ही पूछते है काम करते रहना चाहिए जिसे करने में समय चाहे जितना भी लगे मेहनत चाहे जितनी भी लगे सफल हो या असफल बिना काम किये इंसान बेकाम जो हो जाता है
बिना किये किसी काम के
नहीं बैठना कभी आराम से

  • काम ऐसा कीजिए जिसमें भले ही थकान हो पर कल आपका नाम हो भले ही लोग आपका काम भूल जाएं पर आपका नाम सबकी जुबां पर हमेशा बना रहे  ।
  • कर्मो से ही तो पहचान है इंसान की ।
  • अपने काम करने के लिए स्वयं को प्रेरणा दो की मैं यह कर सकता हूँ अपने आपको प्रेरणा का अच्छा काम है व्यक्ति स्वय में कभी निराश नहीं होगा और प्रेरित भी होगा  ।
  •  जीवन की सबसे बड़ी खुशी उस काम को करने में है जिसे लोग कहते हैं तुम नहीं कर सकते!!
  • जो काम आज किये जा सकते है उसे कल पर मत छोड़िये काल करे सो आज कर पल में प्रलय होयेगा बहुरी करेगा कोई ।
  • प्रेरणा हर दिन काम करने से ही आती है।
  • जब काम करो तो खुद को मत रोको दो पर अपने आपको उस काम में झोंक दो ।
  • काम करो तो पूरी शिद्धत से करो की उसे खत्म करने के बाद आराम करो ।
  • हम कुछ बनने के लिए कम करते हैं न ही कुछ पाने के लिए ।
  • व्यक्ति अपने कर्मो से महान बनता है जन्म से नहीं ।
  • पसीना बहते है तो बहने दो काम तो  काम है कल कर लेंगे आज रहने दो ।
  • ऐसे कार्यकर्ता बनिए आपका काम तो दिखे आप ना दिखे ।
  • थक जाओ तो खुद में एक शोर पैदा करो जो शोर करे तो आप आगे बढ़े ।
  • यदि आप अच्छे नहीं बन सकते तो कम से कम काम ऐसा करिएँ की वो अच्छा दिखे ।
  • अपने काम को एक रहस्य ही रहने दो! लोगों को काम का नतीजा दिखाओ!! 
  • अच्छी शुरुआत से आधा काम हो जाता है ।
  • बदलाव बहुत कठिन काम है ।
  • जैसे तेल समाप्त हो जाने से दीपक बुझ जाता है, उसी प्रकार कर्म के क्षीण हो जाने पर दैव नष्ट हो जाता है 
  • अपने काम को एक रहस्य ही रहने दो, लोगो को काम का नतीजा दिखाओ ।
  •  एक साथ आना शुरुवात है, एक साथ रहना उन्नति है, और एक साथ काम करना सफलता है।
  • आत्मप्रशंसा तथा बड़बोलेपन में लगा इन्सान कभी कोई ढोस काम नहीं कर सकता ।
  • कर्म सदैव सुख न ला सके परन्तु कर्म के बिना सुख नहीं मिलता ।
  • धीरज रखना वो कड़ी मेहनत है जो आप तब करते हैं जब आप अपने किये हुए कठिन परिश्रम से थक जाते हैं ।
  •  कड़ी मेहनत से हम हमारा भाग्य बदल सकते है ।
  • आपकी कड़ी मेहनत बेकार नहीं जाती है।
  • जीवन में सबसे बड़ी ख़ुशी उस काम को करने में है जिसे लोग कहते है की तुम नहीं कर सकते हो ।
  • परिश्रम वह चाबी है, जो किस्मत का दरवाजा खोल देती है ।
  • टीम में काम करने से काम कम हो जाता है और सफलता की संभावना अधिक ।
  • कर्म वह आइना है, जो हमारा स्वरूप हमे दिखा देता है। अतः हमे कर्म का अहसानमंद होना चाहिए ।
  • काम आपको अर्थ और उद्देश देता है और इसके बिना जीवन अधुरा है ।
  • कल की तैयारी आज का मुश्किल काम है ।
  • जो व्यक्ति छोटे-छोटे कर्मो को भी ईमानदारी से करता है, वही बड़े कर्मो को भी ईमानदारी से कर सकता है ।
  • हर एक नेक काम पहले असंभव है ।
  • कर्म ही मनुष्य के जीवन को पवित्र और अहिंसक बनाता है ।
  • खाली बैठना दुनिया का सबसे थकने वाला काम है है क्योंकि सर्वस्व त्याग देना और आराम करना असंभव है ।
  • अगर कुछ महत्व रखता है तो वह है कर्म और प्रेम ।
       पसीने की स्याही से जो
      लिखते है अपने इरादों को,
      उनके मुकद्दर के पन्ने
      कभी कोरे नहीं हुआ करते

3 टिप्पणियाँ:

Unknown ने कहा…


Nice post and very useful information!Thank you for sharing.

I.A.S. Full Form In Hindi

Acp kya hota Hai

SSC full form, Qalification and Rcruitment

ATM Full Form And Benefits of ATM In Hindi

Computer full form in hindi

Pradhan Mantri kaushal vikas yojana

How To Get Pregnant Without Sex In Hindi

कोपल कोकास ने कहा…

धन्यवाद आप अपना नाम बताए ।

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…


आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (30-01-2017) को "है सूरज भयभीत" (चर्चा अंक-2864) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

एक टिप्पणी भेजें