बचपन में किन खिलौनों से खेलते थे आप ?

पोला आया ,खेल-खिलौनेवाला आया ,मिट्टी के खिलौने लाया


हर साल ’’ पोला ’’ पर्व के समय हमारे मोहल्ले में एक मिट्टी के खिलौने वाले अंकल निकलते थे । वे अंकल अक्सर दोपहरी के समय आते थे । जब वे आते थे तब हमारे मोह्ल्ले के बच्चे या तो अपनी पढ़ाई कर रहे होते या तो स्कूल से आकर भोजन कर आराम फरमा रहे होते थे । हमारी मम्मी हमें देखकर सोचती थी चलो अच्छा है ये थोड़ी सो जाये तो हम अपना कुछ काम निपटायें । बस खिलौने वाले अंकल का आना जब होता था तब अचानक हमारे घर पर मेरे साथियों मे से किसी कोई एक आता और कहता कि आंटी वो अपने मोहल्ले में खिलौने वाला आया है । फिर मैनें सुन लिया तो मैनें अपनी मम्मी से जिद की मुझे भी खिलौने दिलाओ ना सारे मोहल्ले के घरों पर यही दृश्य होता था कि हर बच्चा अपनी मम्मी के आगे पीछे तो उनका पल्लू थामे तो कभी उन्हे उनकी पसंद की चीज देकर उन्हे फुसलाता तो कभी मनाता कि मम्मी मुझे भी खिलौने दिलाओ ना मम्मी मैं थोड़ी देर खेलने के बाद अपना होमवर्क पूरा करुंगी या करुंगा जो भी हो मम्मी तो समझ ही जाती की ये सारे बहाने तो हर साल के है ( खिलौने लेने के लिए ) । आखिर इतनी मनुहार करने के बाद मम्मी मानी । उसके बाद जल्दी से मोहल्ले के सारे बच्चे अपनी अपनी मम्मियों व टोकनी को लेकर जिसमें हम बहुत सारे खिलौने लेगें वो टोकनी बड़ी होती है वहाँ जाते है जहाँ खिलौने वाले अंकल आये हुये होते है । फिर हम वहाँ जाकर अपनी अपनी पसंद के खिलौने खरीदते है बहुत सारे खिलौने, हमारी मम्मियाँ खिलौने वाले अंकल से मोल भाव करती है और हम सोचते है चलो लाख मनुहार के बाद आखिर खिलौने मिलें तो सही । खिलौने लेनें के बाद पहले तो हम घर जाते है घर जाते ही मम्मी की कि इस बार घर पर ही खेलना अपने दोस्तों के साथ मत खेलना पर हम कहाँ मानने वाले है मम्मी अपने काम में इधर उधर हुई कि हमने खिलौने वाला टोकना उठाये और उनसे नज़रें चुराकर बचाकर चल दिये दोस्तों के साथ खेलने दोस्तो के घर ये खेल होते थे किसी कि छत पर या तो किसी के घर पर , हमने किसी को कड़ाही दिखाई किसी को चक्की किसी गिलास किसी को कुछ । कुछ देर प्रेमपूर्वक खेले फिर लड़ाईयाँ शुरु हुई इस मारपिट में खिलौने तोड़े गये। किसी को कुछ मारा फेंका और रो धोकर खेल खत्मकर वापस अपने टोकने उठाकर चल दिये अपने घरों की ओर फिर घर पहुँचकर मम्मी की डाँट सुनी टोकने जगह पर रखे गए । मम्मी से बार बार कहा कि अब लड़ाई नहीं करना । मम्मी ने फिर से हिदायतें दी की कल मत जाना पर हमने नहीं सुनी । कल फिर खिलौने वाला टोकना उठाया और । खा पीकर निकल गए अपने दोस्तों के साथ खेलने बिना इस बात की फिक्र किये कि घर जाने पर मम्मी से डाँट पड़ेगी ।
कभी मैं अपने दोस्तो को अपने घर पर बुलाती खेलने के लिए कभी मैं जाती । मेरे उस ग्रुप में लड़के व लड़कियाँ भी शामिल थे । कुछ तो भाई बहन भी थे वे भाई बहन आपस में लड़ते झगड़ते ,रुठते मनाते फिर खेलने लग जाते बड़ा प्यारा लगता उनका यह प्यारा सा अनोखा सा रिश्ता । मेरे घर पर दोपहर के समय अक्सर बहुत सारे बच्चों की रोनक होती थी । मेरी मम्मी स्कूल पढ़ाने जाती थी और मैं घर पर रहती थी हम सारे बच्चे दिनभर खेलते मस्ती करते हम बच्चे इतना खेलते इतनी मस्ती करते कि शाम तक मेरे घर का नक्शा ही बदल जाता और जब मेरी शाम पाँच बजे स्कूल से घर आती तो पूछती कि आज कितना खेला क्या – क्या किया सब कुछ पूछती ।

आपको याद आये अपने बचपन के खेल ..? अंकल लोगों को भले याद न आये हों आंटियों को तो याद आ गये होंगे .. क्यों आंटी याद आया ?---आपकी कोपल

4 टिप्पणियाँ:

Anil Pusadkar ने कहा…

बचपन की यादे किसी खजाने से कम नही होती हैं।

विनय ‘नज़र’ ने कहा…

सच वो यादें आज भी मुस्कुराहट ला देती हैं
---
मानव मस्तिष्क पढ़ना संभव

श्यामल सुमन ने कहा…

कैसे भूला जा सकता है बचपन का अतुलित आनन्द।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

शोभना चौरे ने कहा…

बहुत सारे सवालो को जन्म दे गई ये पँकतिया |

साबूदाना और हा अगर खिचड़ी के शौकीन है तो नवरात्रि मे इंदौर देवास चले जाइए हर देवी के मंदिर मे टनो से साबूदाने की स्वादिष्ट खिचड़ी बनती है और श्रधलू इसे प्रसाद समझकर बड़े प्रेम से खाते है |(उपवास मे)
आपने साबूदाने की निर्माण प्रक्रिया के बारे बहुत अच्छी जानकारी दी धन्यवाद |
जहा इसको बनाया जाता है उन राज्यो मे मे इसका कम प्रयोग होता है जैसे मैने देखा है केरल .चेन्नई बेंगलोर आदि मे ना तो कोई ब्रांड के पेकेट मिलते है हा सिर्फ़ १०० -१०० ग्राम के पेकेट प्लेन प्लास्टिक मे मिलते है और मध्यप्रदेश मुंबई आदि स्थानो परकई ब्रांड और आधा किलो
और ऐक किलो के ही पेकेट मिलते है |जहाँ सबसे ज़्यादा साबूदाने की खिचड़ी,बड़े पप्ड़और खीर बनयी जाती है |

" पोला"आया खेल खिलोने वाला आया ने ह्मे भी बचपन की बहुत सी यादे याद करवा दी \
पोला त्योहार मध्य प्रदेश के निमाड़ जिले मे खूब अच्छे से मनाया जाता है |
इसे पोला अमोस (अमावस्या )कहते है|श्रवण महीने मे यह अमावस आती है .इस दिन गावो मेबैलो को खूब स्जाया जाता है
उनको दौड़ाया जाता है कई प्रतिस्पर्धाए आयोजित की जाती है |और घर घर खीर बनती है |
और हा मिट्टी के खिलोने मे बैल ज़रूर बिकने आते थे और हम उन मिट्टी के बैलो रंगीन बनाते थे और उन्ही की रेस करते थे क्योकि हमे बाहर जाना माना होता था इसमे पुरुष ही भाग लेते थे तब हम घर महि पोला माना लेते थे |
तुम्हारी पोस्ट तुम्हारी ही तारह प्यारी है
आशीर्वाद शुभकामनाए

एक टिप्पणी भेजें